बुधवार, 26 सितंबर 2012

हे.... ओम्-कार ( प्रार्थना ) |

                                   
                                                  
                             तारे - ग्रहोंके  तुमही  मूलाधार ,
                             निराकार  सर्वत्र   तुमही  साकार  || १ ||

                                    दुःखहारक   तुमही  सुखकारक ,
                                    विघ्ननाशक  तुमही  महापाप तारक  || २ ||
                                                       
                             तुमही  केशव,रूद्र ,इंद्र और ब्रह्मा ,
                             तुमही भूमि ,वायु ,अग्नि ,सुर्य-चंद्रमा || ३ ||
                                          
                                     तुम्हीसे ज्ञान ,विज्ञान और तत्वज्ञान ,
                                     अक्षरब्रह्म तुम हो, तुम्हीसे आत्मज्ञान || ४ ||

                            हे आदिदेव , महिमा तुम्हारी शब्दातीत ,
                             दीजिए सदैव  सद् बुद्धी, कार्यसिद्धि अबाधित  ||५||

                                           ||  इति श्रीकांत चित्राव विरचित श्री गणेश प्रार्थना सम्पुर्णम्  ||

 रोज सुबह उठते ही श्री गणेश ध्यान कर , यह प्रार्थना करें . श्री गणेश महाराज जी  की कृपा से आपका दिन सफल हो जाएगा |  
__________________________________________________________________________________________________________________________________________________________________

                                                                 जाऊं मैं कैसे पिया.... ?
                                                         _________________________
                                             
                                                       जाऊँ मै कैसे पिया ... यहाँसे ,
                                                                             जाऊँ मै कैसे पिया... ? || ध्रु ||

                                                      मदहोश हवां मे तेरी सांस बसी ,
                                                                            धरती झूमें ,बरसे खुषी ,
                                                      
                                                        पग ना निकले इस चमनसे ........ ,
                                                                             जाऊँ मै कैसे पिया ..यहाँसे ,
                                                     जाऊँ मै कैसे पिया..... ?                  || १ ||

                                                       
                                                       हाँथ जो थामा तुने प्यारसे ,
                                                                              चमकी बिजली दौडी तनसे ,

                                                        होंश नही मुझे, अपनेही मस्तीसे ,
                                                                           जाऊँ मै कैसे पिया .. यहाँसे ,
                                                         जाऊँ मै कैसे पिया ..... ?                || २ ||

                                                     
                                                       छुपके आई मै तांक ती नज़रोंसे ,
                                                                                डर लगता है अपने बाबुल से

                                                         भूल ना हो कोई , मरू मै शरम से ,
                                                                                जाने दो मुझको पिया .. यहाँसे ,  

                                                           जाने दो मुझको पिया ........                             || ३ ||

                                                           
                                                          जाऊँ मै कैसे पिया ... यहाँसे ,
                                                                              जाऊ मै कैसे पिया ... ? 
                                                                                                           

                                                                                                        श्रीकांत चित्राव .
                                                                                                    __________________
                                                         

                                                        

                                                                 

1 टिप्पणी:

  1. "Jai Ganesha"
    It's a very good begining Srikant Bhai to translate your feelings into poetry. I really appreciate the effort you have made, and I sincerely hope to read more in times to come.
    Keep it going... All the very best.
    Bhasker M Sundaresan

    उत्तर देंहटाएं