सोमवार, 25 जून 2012

अब आओ मुरली मोहन

              हे मुरलीमोहन अब तो तुम्हे आना ही है ,
                            धर्म स्थापना वादा आपका ,इस धरती को बचाना है | | ध्रु. | |
                                          
               सच्चाई,खुषहाली पाएँ जन ,कईयोंने प्राणाहुति दे दी है ,
                             दुष्टोंसे बचाके धरतीको , स्वतंत्रता की चादर चढाई है |
                पर आज इनके बलिदान का , अच्छा मज़ाक उडाया है ,
                              नेताओंसे हैवान अच्छे , ऐसा शर्मनाक रंग दिखाया है | | १ | | 


                                                            हे मुरलीमोहन अब तो तुम्हे ..........................
            
                राजकुल मे जन्में त्यागकर उसे , शांतिदूत बन आएँ है ,
                              प्रेम, त्याग का मंत्र अनमोल , इस संसार ने पाया है | 
                 भ्रष्ट-सत्ता , द्वेष ,दमन का , ध्वंस-राज यहाँ कई सालोंसे है ,
                               जनता और देश के लुटेरें , राजनेता अब बन बैठे है | | २ | |
                                                              
                                                             हे मुरलीमोहन अब तो तुम्हे ...........................


                 तीर्थंकर अवतार आपने , अहिंसा की शक्ती-स्थापना की है ,
                               जीव-जन्तु भी जीनेके हकदार , पावन विचार पिरोया है |
                   हिंसा , भेद , छल और कपट , सत्ता-कुंजी आज बन बैठी है ,
                                गरीब जनता रगडी जाती , चिंता यहीं गुम हो गई है | | ३ | | 
                                                              
                                                              हे मुरलीमोहन अब तो तुम्हे ............................


                 इश्वर-संतान रुपमे आपने , किया उद्धार पिछडों का है ,
                                इश्वर को सभी है सामान , पवित्र पाठ पढ़ाया है |
                 धर्म,पंथ,जात-पात का बटवारा , आज दिखाई देता है ,
                                हर समूह का पाखंडी नेता , खून का प्यासा बन बैठा है | | ४ | |

                                                              हे मुरलीमोहन अब तो तुम्हे ...................
                                                              
                   सबसे चहिते पैगंबर बनकर , नेक-बंदगी की राह दिखाई है,
                                   निराकार रूप है बसा कण-कणमे , सीख हमें सिखलाई है |
                    हर मुल्क,हर मजहब और आदमी को ,गुटोंमे बटते देखा है ,
                                    मानवता की जलती आगपर , हर नेता रोटी सेंकता है | | ५ | |


                                                               हे मुरलीमोहन अब तो तुम्हे ......................


                     'सत् श्री आकाल' सत्य-मंत्र देकर , सदा सत्य रक्षा की है ,
                                     सत्य-धर्म जीवन से श्रेष्ठ , बोध यहीं दिया विश्वको है |
                      असत्य ही सत्य,अधर्म ही धर्म , राज-निती तय हो बैठी है ,
                                      चरणसीमा पर राज कलीका , दिखाई दुर्भाग्य से देता है | | ६ | |
                  
                                                                हे मुरलीमोहन अब तो तुम्हे ...........................


                       नरक-यातना से धर्म , भूमी और जन को ग्लानी आई है ,
                                     साधू-संत हो गएँ है रंक , दुष्ट अमीरोंका राज चल रहा है |
                        सत्य-धर्म, सज्जनोंकी विजय , यही जनता की पुकार है ,
                                      आपके अवतार बिना , स्वप्न विश्व का अधूरा रह जाना है | | ७ | |


                         इसीलियें ................        हे मुरलीमोहन अब तो तुम्हे ..................................................
                          
                                       
                             
                       
                    
                   


                     
                                                               
                  
                              
                                              































1 टिप्पणी:

  1. Bahut Khoob Srikant JI. Kafi Acche Vichar Hain Aap ke Aaj Kal ke paristhitiyon mein. Kyon Na Isse Hum Gane Mein Banaye Aur Share karein.

    उत्तर देंहटाएं